,

सबा अहमद  ने पीएम के सामने बताया सुरंग के अंदर 17 दोनों का राज 

Posted by

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में 17 दिनों तक सुरंग के अंदर फंसे रहे 41 मजदूरों को बाहर आने के बाद उत्तराखंड निवासियों द्वारा बहुत दी गई बहुत सारी बताया और इसी के साथबड़े अवसर परसबा अहमद ने पीएम के सामने बताया सुरंग के अंदर 17 दोनों का राज सुरंग के बाहर आने के बादपीएम मोदी ने कीसुरंग के अंदर फंसे हुए मजदूरों से बात और बाहर आने पर  दी शुभकामना

सबा अहमद  ने पीएम के सामने बताया सुरंग के अंदर 17 दोनों का राज 

उत्तराखंड की सिलक्यारा सुरंग से 17 दिन बाद सुरक्षित निकल गए श्रमिकों से प्रधानमंत्री मोदी ने फोन पर बात की प्रधानमंत्री मोदी पर जब नाम पूछा तो युवा इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड के सभाअहमद से बात हुई पीएम मोदी ने सबा अहमद से कहा कि मैंटेलीफोन स्पीकर पर रखा है ताकि मेरे साथ जो लोग बैठे हैं वह भी बात ना चाहेंगे

कैसे काटे सुरंग के अंदर 17 दिन

सबा अहमद ने कहा सुरंग के अंदर 17 दिनों तक हमने अपने फोन में लूडो खेल कर टाइम पास किया क्योंकि फोन में नेटवर्क ना होने के कारण हमने किसी को फोनफोन कर पा रहे थे और ना ही किसी से मैसेज दौरान सभी मजदूर अपना दिल दिलाने और समय को व्यक्त करने के लिए फोन में लूडो और अन्य सभी गेम खेल रहे थेऔर उन्होंने खारे पानी से अपना मुंह और हाथ धोया शुरुआती में उन्हें कंगन भी खाने पड़े और उसके दौरान चलते उन्होंने शौचालय के लिए एक स्थानीय निर्धारित किया

क्या सुरंग के अंदर खाना आता था

सुबह अहमद खान ने कहा सुरंग के अंदर जो भी खाना आता और जो कुछ भी मिलता तो वह सब मजदूर एक दूसरे बिना झगड़ा बराबर सभी में पान दिया जाता हूं और मजदूरबुजुर्गों को हौसला दिया जाता कि आप आपके यहां से बाहर निकल जाएगा किसी उम्मीद को बनाए रखें मजदूर 17 दिनों तक टनल के अंदर जिंदगी की लड़ाई लड़ रहे थे और आखिर में परिणाम सारी दुनिया के सामने आया

टनल में फंसे मजदूरों के लिए पीएम मोदी का दुख

टनल में फंसे हुए मजदूरों के लिए पीएम मोदी ने दुख जताते हुए कहा कि हमें जानकारियां मिलती रहती थी लेकिन चिंता कम नहीं होती थी जानकारी के समाधान तो होता नहीं है वह जितने भी श्रमिक निकल आए हैं उन सबके परिवार का पुण्य भी काम आया है जिससे वह इस संकट की घड़ी से बाहर निकाल कर आए हैं पीएम मोदी से बात करते हुए सभा अहमद ने कहा कि हम लोग इतने दिनों तक टनल में पैसे रहे लेकिन हम लोग को एक दिन भी ऐसा कुछ भी एहसास नहीं हुआ कि हम लोग कुछ ऐसे कमजोरी रही है या कोई घबराहट हो रही है

टनल के अंदर हमें ऐसा कुछ नहीं हुआ वह 41 लोग थे और सब भाई की तरह रहते थे किसी को भी कुछ हो तो हम लोग एक साथ रहते थे किसी को कोई दिक्कत नहीं होने देते थे अतः एक दूसरे के भाई समान एक दूसरे का ध्यान रखते थे

सबा अहमद  ने पीएम के सामने बताया सुरंग के अंदर 17 दोनों का राज 

फोरमैन गब्बर सिंहऔर पीएम की बात

मजदूरों से बात करने के बाद पीएम मोदी ने फोन में गब्बर सिंह से बात की पीएम मोदी ने कहा गब्बर सिंह में तुम्हें विशेष रूप से बधाई देता हूं कि मुझे  मुख्यमंत्री हर रोज बताते थे आप दोनों जो लीडरशिप दिखाई है और जो टीम भाव में दिखाई है मुझे लगता है कि शायद किसीयूनिवर्सिटी को एक केस स्टडी तैयार करनी पड़ेगी की गब्बर सिंहवह कौन सी उत्तर से क्वालिटी है जिसने संकट के समयने पूरी टीम को संभाला इस पर प्रधानमंत्री गब्बर सिंह ने कहा कि आप सभी लोगों ने हमारा हौसला बढ़ाया और वही हौसला हमारी लीडरशिप की खासियत है और इसी हौसले ने हमें हिम्मत दी

गब्बर सिंह ने कहा कि कंपनी ने भी कहीं कसर नहीं छोड़ी हमारा साथ देने में केंद्र और राज्य सरकार ने भी हमारा हौसला बढ़ई रखा हमारे बॉक्स नाका बाबा पर हमें बहुत विश्वास था हमारे सभी दोस्त को शुक्रिया जिन्होंने मुश्किल की घड़ी में हमारी हर बात सुनी और हमें हौसला दियाऔर यह सोच ले से ही आज हम सभी भाई यहां से बाहर निकले

140 करोड लोगों ने जताई चिंता

पीएम मोदी ने कहा कि आप सबके परिजन बहुत परेशान थे पूरे देश के 140 करोड लोगों को चिंता थी हमसे भी लोग खबर पूछते थे आप सबके परिजन को बधाई के पात्र हैं जिन्होंने ऐसी संकट की गाड़ी के स्वयं भरता और पूरा सहयोग पीएम मोदी ने कहाकी आप मेंसे कोई था जिन्होंने ऐसी परेशानी को भी फेस किया हो और जिसका कोई अनुभव काम आया हो

इस पर गब्बर सिंह ने कहा कि एक बार में सिक्किम था तब लैंडस्लाइड हो गया था उसे भूकंप आ गया था और उसे समय हम फंस गए थे औरमुझे थोड़ा बहुतएहसास था कि इस समय हमें सावधानी औरज्यादा बरतनी होगीअतः इस के स्वयं और विश्वास को बनाए रखें हमने और हमारे पूरे मजबूर टीमों ने संकटमें भी संयम करताऔर इस परेशानी से बाहरआए

पूरी दुनिया में अब खुशी का माहौल पीएम मोदी

प्रधानमंत्री मोदी से उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर के रहने वाले अखिलेश ने बताया कि अखिलेश ने पीएम मोदी से कहा कि हमें सुरंग के अंदर कोई भी समस्या नहीं हुई सभी हमारा हौसला बढ़ाते रहे खाने-पीने में भी कोई समस्या नहीं हुई तुम्हें खाना टाइम पर दिया जाता और हम एक दूसरे के साथ मिलजुल कर एवं हंसी खुशी लेकर अपना टाइम व्यक्त किया इसी के साथ हमने इस परेशानी के साथ अपने समर्थ से और पूरे लगन से परेशानी और कठिनाई का सामना कियापीएम मोदी ने कहा सभी संतो को सुरक्षित निकल आने के बाद पूरे देश के साथ पूरी दुनिया में खुशी की लेकर आ गई है 


उत्तराखंड में सुरंग क्यों गिरी?

चार धाम परियोजना के तहत बन रही इस सुरंग 4.5 किलोमीटर लंबी सुरंग का मकसद तीर्थ यात्रा को आसान बनाना है इस रंग में 41 मजदूरों का जीवन संकट में डाल दिया था इस सुरंग को नेशनल हवाई अड्डे इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड बनवा रही है सोनम को बनाते समयसुरंग के अंदर मजदूर काम कर रहे थे और तभी ऊपर से मालवा गिरने के कारण सुरंग बंद हो गई जिससे 41 मजदूरसुरंग के अंदर 17 दिनों तक फंस गए मालवा ज्यादा होने के कारण मजदूर बाहर आने में बहुत परेशानीका सामना करना पड़ा

12 सितंबर को धस गई थी  सिलक्यारा सुरंग

सिलक्यारा सुरंग में 12 नंबरको सुरंग दास ने कितनी मजदूर फंस गए थे इन सुरक्षित बाहर निकलने का अभियान बार-बार नाकाम हो रहा था लेकिन हां नहीं मानी गई रेस्क्यू के लिए अमेरिका के अगर मशीन का इस्तेमाल किया गया लेकिन इसे टूट जाने के बाद रेंट – नाम बचे हुए मलबे को खोदकर बाहर निकाल इसके बाद मंगलवार की शाम सभी मजदूर को पाइप के जरिए सुरक्षित बाहर निकल गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कैसा रहेगा इस बार का सूर्य ग्रहण 2017 के मुकाबले जानिए 2024 Ayodhya Ram Mandir Top 10 News PM Modi Samsung S24 के 10 आकर्षित करने वाली चीजें Narendra Modi Age 2024 : prime minister of India Lift 2024 Best Preview